PADHO AUR AAGE BADHO

Bachhe Desh ke darpan hain. ye Rastra ki muskurahat hain. Ye Rastra ki Atma hain. Inme atit soya hua hai, Vartman karbate le raha hai aur bhbhishya ke adrisya biz boyeja rahe hai. Bachho ke bare mein kaha zata hai ki ye chamakte hue tare hain jo Ishwar ke hath se chhutkar Dharti par gir pare hain. Ye prakriti ki anmol den hain, sundartam kriti hain. Ye Manovigyan ki mulhain shikshko ki prayogshala hain. Inhe manav jagat ka nirmata kahna uchhit hoga.Inke vikas par duniya ka vikash nirbhar hai.Balak ki seva hi Vishwa ki seva hai, Manavata aur Ishwar ki seva hai.pujya Bapu ka kathan hai- ‘Satya aur Ahinsha ka paath maine baccho se sikha hai. ‘Chacha Nehru ne kaha- ‘Bacche Rastra ke bhabhishya hain.’ Garaj hai ki bachho ka swagat kiya jana chahiye. Inke Sarwangin vikash ki vyabashtha ki jani chahiye. Bachho ke bhitar ki pratibha ko ubharna hoga. Use dawana thik nahi hoga. Bachho ke atmavishwas ko nastya karna, unke man par nirasha ki chaya dalna, badha hi bhayanak pap hai. Baccho ko shabshi aur utshah ki absayakta hain. Inhi se unka jivan unatishil ban sakta hai.Siksha ka bhi mahan udeshya gyan nahi karma hai. Karya kaushal aur karmashilta hi shiksha ka mulmantra hai. jis siksha mein samaj ke kalyan aur samirdhi ke tatba nahi hai, wah kabhi bhi sacchi siksha nahi kahi ja sakti hai. Sarbangin shiksha ke trik adhar hain.- Sarir,Buddhi aur Achran. In tino ka samyak vikash hona paramavashyak hai. Balko ki kartvashilta hi sab guno ki nib hain. Karma ko Ishwar bhi kaha jata hai. Shiksha ka mahan lakshya charitra-nirman bhi hai.Kalchkra abadh gati se bardh raha hai. Pratisphardha ka daur chal raha hai. Samajik mandand badal rahe hain. Rastra ki abashktaye naye kalebar aur tebar meinprakat ho rahi hain. Lihaza, nayi pidhi ko bachpan kal se hi sambhavit chunautiyo kasamana karne ke liye tayar karna hoga. Yahi se Abhibhabak, Shishak, Samaj aur Sarkar ki bhumika nirdhrit hojati hain. shiksha har paristhitiyo mein rastra ki sashti, kintu shashwat suraksha hai. Siksha prapta karna har Nagrik ka janam shidha Adhikar hai.’Bhartiya sambhidhan mein sabhi baccho ko ‘nihsulka aur aniwarya’ shiksha hasil karne ka Adhikar hai.Sarkar ne shiksha ke sarwjanikikarn par bal diya hai. Pathyakaram ko ‘balak kendrit’ banaya ja raha hai. Niracharata aur andhvishwas ke maharog se niwaran ke liye rachanatmak rayash chal rahe hain. Babjud, ishke hamne sampurna shacharta ka lakshy aabhi tak hashil nahi kiya hai. Ish durbhagyapurna isthithi se hame ubarana hoga.Hame yeh nahi bhulna chahiye ki shiksha sway hi shakti hai. Vidya ke atirikta aur koi shreshta dan nahi hain. Ish dan se shiksha ghatati nahi, badhrti hai. Dharmashatro mein bataya gaya hai ki vidya se vinay milta ha,Vinay se yogyata(patrata), yogyatase dhan,dhan se dharma aur dharma se sukh prapt hote hain. Kyonahi, Hum sab mil kar ‘Vidya Dan Yagya’ prarambh kare. Samarpan aur Anand ke sath Vidya Dan ka Sarvaphaldayak anushthan kare.Yani, hum Baccho se kahe – padho aur aage badho

कैसा बचपन कैसी शिक्षा

Image result for garib bache images 
 each on teach one.

सुना था तीसरा नेत्र है आदमी का
शिक्षा ही,
आधार है देश की तरक्की का|
अनेक प्रयास किए गए
शिक्षा का स्तर बढ़ाने का,
अनिवार्य हुई शिक्षा
बच्चों के लिए…
शिक्षा का स्तर बढ़ा
बनाई गई तरह-तरह की योजनाएँ|
लेकिन आज भी, बच्चे पढ़ते हैं,
सरकारी कागजों पर|
विद्यालयों का रास्ता
नहीं देख पाते बहुत से बच्चे,
शिक्षा के ठेकेदार बैठते हैं
होटलों में,
बाते करते हैं अनिवार्य बाल शिक्षा की
और उन्हीं के जूते टेबल को
साफ़ करता दस वर्ष का बच्चा
निकल जाता है|
प्रदेश का पुस्तक मेला,
बहुत बड़ा पुस्तक मेला,
विविध भाषा की
रंग-बिरंगी पुस्तकें|
एक किशोरी बारह वर्ष की,
आँखों में कैशोर्य के सपने,
मैले-कुचैले कपड़े पहने,
हाथों में चिर-परिचित-
पीढ़ियों से चली आ रही विरासत
झाड़ू ………………..
झाड़ू लगाते-लगाते पुस्तक देखती
ललचाई नज़रों से
फिर थोड़ा स्पर्श कराती
डरते-डरते चित्र देखती,
पढ़ने का प्रयास कराती शायद …
शायद उसे पता नहीं था
अपने अधिकार का|
विद्यालय परिसर
कार्यशाला ज़ारी है,
नई शिक्षा पद्धति पर
प्रश्न था ……..
कैसे हो बच्चों का मूल्यांकन?
बहुत से गुरुजन प्रस्तुत कर रहे थे
अपने-अपने कर्म|
लोग नाश्ता करते हैं और
नाश्ता कराता है लगभग आठ वर्ष का
एक मासूम ….
बरतन धोता है|
उसकी नज़र बरतन पर कम
मैदान में खेलते बच्चों पर ही टिकी है …….
सब चले गए, अब वह खाली है
दो बच्चे उसी के उम्र के,
खेल रहे थे बास्केट बाल
वह बच्चा दौड़ता है उन्हीं के साथ
और आनंदित होता है|
शायद छू लेना चाहता है,
बॉल केवल एक बार|
एक मासूम सा बच्चा
चाय देता है स्कूल में
खोया-खोया सा रहता है
शायद स्कूल में आकर
बैठ जाता है किसी कक्षा में|
क्या यही अधिकार है
शिक्षा का|
सारा देश भरा पडा है
बाल शिक्षा के अधिकार के
विज्ञापनों से पर
सब सारहीन …….!
यह कैसा बचपन और कैसी शिक्षा है?

पुस्तक होती है अनमोल,
बिन बोले ही देती बोल.

पुस्तक देती हमको ज्ञान,
जब होता मन परेशान.
सूझे न जब कोई निदान,
पुस्तक से मिलता समाधान.
मन में बज उठते हैं ढोल,
पुस्तक होती है अनमोल.

पुस्तक में होती नयी खोज,
पुस्तक से मिलती नयी सोच.
पुस्तक में रहता इतिहास,
मनोरंजन हास -परिहास.
हर रहस्य को देती खोल,
पुस्तक होती है अनमोल.

जब न हो कोई संगी-साथी,
चिट्ठी भी जब न मिल पाती,
और उदासी मन पे छाती,
पुस्तक ही तब मन बहलाती.
मित्रों का करती है रोल,
पुस्तक होती है अनमोल – See more at: http://www.poemocean.com/poem/education-poem/pustak-hoti-hai-anamol-486.html#sthash.3TIKz12N.dpuf

भविष्य में वो अनपढ़ नहीं होगा जो पढ़ ना पाए……..अनपढ़ वो होगा जो ये नहीं जानेगा की सीखा कैसे जाता है .

बच्चों को शिक्षित किया जाना चाहिए , पर उन्हें खुद को शिक्षित करने के लिए भी छोड़ दिया जाना चाहिए.